सूरह फलक (113) हिंदी में | Al-Falaq in Hindi

सूरह फलक “Al-Falaq”

कहाँ नाज़िल हुई:मक्का
आयतें:5 verses
पारा:30

अल्लाह के नाम से जो बड़ा ही मेहरबान और रहम करने वाला है।

  • (1) कहो, मैं पनाह माँगता हूँ,  सुबह के रब की।
  • (2) हर उस चीज़ की बुराई से जिसे उसने पैदा किया है।
  • (3) और रात के अंधकार की बुराई से जबकि वह छा जाए।
  • (4) और गाँठों में फेंकने वालों (या वालियों) की बुराई से।
  • (5) और ईर्ष्या करने वालों की बुराई से जबकि वह ईर्ष्या करें।

एक टिप्पणी भेजें